समर्थक

शनिवार, 30 नवंबर 2013

अपूर्वा की ड्राइंग : बारिश, बादल और छाता


अपूर्वा की स्कूल ड्राइंग बुक से : बारिश, बादल और छाता।
From Apurva's Drawing Book : Rain, Clouds and Umbrella.

बुधवार, 27 नवंबर 2013

अपूर्वा की ड्राइंग : डायमंड और मछली


अपूर्वा आजकल ढेर सारी  ड्राइंग बनाती हैं. स्कूल की  ड्राइंग बुक इनकी फेवरेट बुक है. आगामी कुछेक दिनों में अपूर्व की कुछेक ड्रॉइंग्स आप सभी के साथ शेयर करेंगे।


इसमें आप देख सकते हैं डायमंड और मछली।

From Apurva's Drawing Book : Colouring Diamond and Fish

रविवार, 24 नवंबर 2013

डाक टिकट पर अपूर्वा


भारतीय डाक विभाग डाक-टिकटों के क्षेत्र में नित नए और अनूठे प्रयोग कर रहा है. पिछले वर्षों में जहाँ चन्दन, गुलाब व जूही की सुगंध से सुवासित खुशबूदार डाक-टिकट और हालमार्क के साथ मिलकर सोने के डाक टिकट जारी किये गए, वहीँ अब 'माई स्टांप' या 'पर्सनालाईजड स्टैम्प' के साथ डाक-टिकट पर कोई व्यक्ति अपनी भी तस्वीर लगा सकता है. फ़िलहाल ये 17 डाक-टिकटों के साथ उपलब्ध हैं. इनमें ताजमहल, पंचतंत्र, एयरो फ्लाईट, स्टीम इंजन, वाइल्ड लाइफ डाक-टिकटों के साथ 12 राशियों के डाक टिकट भी उपलब्ध हैं.


दुनिया के कई देशों में 'माई स्टाम्प' सुविधा पहले से ही लागू है, पर भारत में पहली बार इसे भारतीय डाक विभाग द्वारा वर्ष 2000 में कोलकाता में 'इंदिपेक्स एशियाना' के आयोजन के दौरान जारी किया गया था. पर उस समय यह उतनी लोकप्रिय न हो सकी. पिछले वर्ष नई दिल्ली में विश्व डाक टिकट प्रदर्शनी (12-18 फरवरी 2011 ) के आयोजन के दौरान इसे पुन: लांच किया गया और लोगों ने इसे हाथों-हाथ लिया. नतीजन देखते ही देखते हजारों लोगों ने डाक टिकटों के साथ अपनी तस्वीर लगाकर इसका लुत्फ़ उठाया. उत्तर प्रदेश में 17 -19 दिसंबर, 2011 के दौरान लखनऊ में आयोजित राज्य स्तरीय डाक टिकट प्रदर्शनी में इसे जारी किया गया और अभी तक अकेले उत्तर प्रदेश में लगभग 5000 लोग इसे जारी करा चुके हैं, जिनमें से अधिकतर लोगों ने ताजमहल के साथ अपनी तस्वीर लगवानी पसंद की.



इस सेवा का लाभ उठाने के लिए अपने शहर में स्थित फिलाटेलिक ब्यूरो में पंजीकरण कराना होता है. एक फार्म भरकर उसके साथ अपनी फोटो और 300 /-जमा करने होते हैं. एक शीट में कुल 12 डाक-टिकटों के साथ फोटो लगाई जा सकती है. इसके लिए आप अपनी अच्छी तस्वीर डाक विभाग को दे सकते हैं, जो उसे स्कैन करके आपका खूबसूरत 'माई स्टांप' बना देगा. यदि कोई तत्काल भी फोटो खिंचवाना चाहे तो उसके लिए भी प्रबंध किया गया है. 'माई स्टैम्प' को ही 'पर्सनालाईजड स्टैम्प' भी कहा जाता है. इस पर सिर्फ जीवित व्यक्तियों की ही तस्वीर लगाई जा सकती है. सम्बंधित व्यक्ति को फिलाटेलिक ब्यूरो में व्यक्तिगत रूप से जाना पड़ता है, यदि किसी कारणवश न जा सके तो सम्बंधित संदेशवाहक से अपना फोटो युक्त परिचय पत्र भेजना पड़ता है.



तो अब देर किस बात की, किसी को उपहार देने का इससे नायब तरीका शायद ही हो. इसके लिए जेब भी ज्यादा नहीं ढीली करनी पड़ेगी, मात्र 300 रूपये में 12 डाक-टिकटों के साथ आपकी खूबसूरत तस्वीर. अब आप इसे चाहें अपने परिवारजनों को दें, मित्रों को या फिर अपने प्रेमी-प्रेमिका को. डाक-टिकट पर आप अपनों की तस्वीर भी छपवा कर उसे भेज सकते हैं. मतलब, आप किसी से बेशुमार प्यार करते हैं, तो इस प्यार को बेशुमार दिखाने का भी मौका है. पांच रुपए के डाक-टिकट, जिस पर आपकी तस्वीर होगी, वह देशभर में कहीं भी भेजी जा सकती है.



'माई स्टाम्प' पर सिर्फ आप अपनी तस्वीर ही नहीं देखते, बल्कि वक़्त की नजाकत के अनुसार इसे विभिन्न डाक-टिकटों के साथ देख सकते हैं. मसलन, प्रेम को दर्शाने के लिए ताजमहल, बच्चों के लिए पञ्चतंत्र, एडवेंचर के लिए वाइल्ड लाइफ से जुड़ा डाक टिकट या फिर एयरो फ्लाईट और स्टीम इंजन. यही नहीं अपनी राशि के अनुरूप भी डाक-टिकट पसंद कर उस पर अपनी फोटो लगवा सकते हैं !!


(चित्र में : माई स्टैम्प के तहत सिनेरेरिया (Cineraria) फूल के साथ अपूर्वा की तस्वीर)


रविवार, 17 नवंबर 2013

राजकीय पब्लिक लाइब्रेरी, इलाहाबाद में अपूर्वा


आजकल की पीढ़ी हर कुछ नेट पर ही खंगालना चाहती है. गूगल ने लोगों काफी सहूलियत प्रदान कर दी है. ऐसे में इस पीढ़ी को भी लाइब्रेरी-कल्चर से जोड़े रखने की जरुरत है. राजकीय पब्लिक लाइब्रेरी, इलाहाबाद में बिटिया अपूर्वा।

शनिवार, 2 नवंबर 2013

दीपावली पर शुभकामनाएँ


इस खूबसूरत दीये को देख रहे हैं। इसे अपूर्वा ने  कलर किया है। स्कूल में सभी बच्चों को दीया कलर करके ले जाना था, सो हमने दीये का प्रिंट-आउट निकाला और अपूर्वा ने इसमें खूबसूरत कलर भर दिये, थोड़ी मदद हमने भी की।

!! दीपावली पर्व पर आप सभी को शुभकामनाएँ !!

दीपावली पर दीये जलाकर पर्यावरण को स्वच्छ रखें, न कि पटाखों और आतिशबाजी द्वारा इसे प्रदूषित करें।

शुक्रवार, 1 नवंबर 2013

स्कूल में अपूर्वा

अपूर्वा का जब प्ले ग्रुप में  एडमिशन हुआ तो कई लोगों  कहा कि अभी बहुत छोटी है, एकाध साल बाद एडमिशन कराइएगा। पर हमें लगा कि बच्चे कम उम्र में ही ज्यादा सीखते हैं और उनकी कैचिंग पवार भी अच्छी होती है, अत: हमने अपूर्वा  का प्ले ग्रुप में  एडमिशन करा दिया। 3 अप्रैल, 2013 को ये पहली बार स्कूल गईं और उसके बाद तो सिलसिला चल पड़ा।  अपूर्वा इतनी नन्ही सी थीं  कि इनके साइज की यूनिफार्म ही नहीं थी, फिर आर्डर देकर नई यूनिफार्म बनवानी पड़ी। 


खैर, अपूर्वा ने पहली बार स्कूल्स  एक्जाम भी दिया।  30 सितम्बर को इनके एक्जाम्स ख़त्म हो गए। देखकर बहुत अच्छा लगा और मन को आश्वस्ति हुई कि जब अपूर्वा ने अपने क्लास में काफी अच्छा परफार्म किया और सेकेण्ड पोजिशन पाई। अब फ़ाइनल एक्ज़ाम तक अपूर्वा  को फर्स्ट पोजिशन पर लाना है और ये भी इसके लिए तैयार हैं।